Home » Content » न जाने किस मिज़ाज का परिन्दा है यह दिल,

न जाने किस मिज़ाज का परिन्दा है यह दिल,

न जाने किस मिज़ाज का परिन्दा है यह दिल,
सीने मैं तो रहता है मगर वश में नहीं...

Add new comment

सबसे ज्यादा बार पढ़ी / देखी जाने वाली शायरी / कविता / पोस्ट