Home » Content » यूँ रोज तुम्हारी तस्वीर देखती हूँ

यूँ रोज तुम्हारी तस्वीर देखती हूँ

यूँ रोज तुम्हारी तस्वीर देखती हूँ, और डूबती जाती हूँ।।
नही सोचा कभी अंजाम गहराइयों का।।

Add new comment

सबसे ज्यादा बार पढ़ी / देखी जाने वाली शायरी / कविता / पोस्ट